मानवता के लिए योग थीम…

7007809707 for Ad Booking
Job Posting
tulsi hospital
tulsi hospital
tulsi hospital
tulsi hospital
tulsi hospital
tulsi hospital
tulsi hospital
tulsi hospital
previous arrow
next arrow
Shadow
Advertisement
sunbeam admission 2023
sunbeam admission 2023
sunbeam admission 2023
sunbeam admission 2023
sunbeam admission 2023
sunbeam admission 2023
sunbeam admission 2023
sunbeam admission 2023
previous arrow
next arrow
Shadow
Advertisement
Phynix-School
IEL-Ballia
DR Service Center
aashirwad hospital
Phynix-School
Phynix-School
IEL-Ballia
IEL-Ballia
DR Service Center
DR Service Center
aashirwad hospital
aashirwad hospital
previous arrow
next arrow
Shadow
Advertisement
City-hospital
City-hospital
pitambar
pitambar
City-hospital
City-hospital
pitambar
pitambar
previous arrow
next arrow
Shadow

7007809707 for Ad Booking

गुरुजनों ने बताया कि योग से ही रह सकते निरोग

बलिया। नागाजी सरस्वती विद्या मंदिर वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय माल्देपुर-बलिया के पं पू. रज्जू भैया सभागार में 8वें अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के थीम ” मानवता के लिए योग” का भव्य आयोजन किया गया ।

इस अवसर पर विद्यालय के यशस्वी प्रधानाचार्य अरविंद सिंह चौहान द्वारा आए हुए सभी अतिथियों का परिचय कराया गया तथा योग दिवस के मुख्य बिंदुओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि योग से ही निरोग रहा जा सकता है और 8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 पूरी दुनिया में ‘मानवता के लिए योग’ थीम के साथ मनाया जा रहा है। जिसकी घोषणा पीएम नरेंद्र मोदी ने 30 मई 2022 को अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में की थी।

Advertisement

कार्यक्रम की अध्यक्षता शिशु शिक्षा समिति गोरक्ष प्रांत के उपाध्यक्ष अक्षय कुमार ठाकुर जी तथा विद्यालय प्रबंध समिति के प्रबंधक अनिल कुमार सिंह जी, कोषाध्यक्ष संजय कुमार कश्यप उपस्थित रहे।
मुख्य अतिथि के रूप में बलिया विभाग के विभाग प्रचारक तुलसीराम जी उपस्थित रहे ।मुख्य अतिथि बलिया विभाग के विभाग प्रचारक तुलसीराम जी ने कहा कि योग यानी जोड़ना! चित्तवृत्ति या मन को काम – क्रोध आदि विकारों से बाहर निकाल कर जो चिरंतर सत्य है जिसको ब्रह्मा या परमेश्वर भी कहते हैं उसके साथ जोड़ना । यह योगाभ्यास से साध्य होता है । इसलिए योगाभ्यास का अपने जीवन में बहुत महत्व है। उसमें ओंकार सर्वश्रेष्ठ है ।ओंकार की साधना प्रतिदिन करनी चाहिए। अपने दिन भर के सभी कार्यक्रमों में अपने शरीर के लिए 15 से 20 मिनट तथा संभव हो तो अधिक से अधिक समय देना अत्यावश्यक है। जिसे शरीर से हम दिन भर काम लेते हैं उसकी चिंता नहीं करना यह योग्य नहीं है। इसलिए दिन भर के कार्यक्रम में दृढ़ निश्चय से शरीर के लिए समय देकर साधना करना अपना कर्तव्य है। योग साधना स्वयं कर अन्य लोगों को भी वह प्रयत्न पूर्वक सिखाना अति आवश्यक है। इस ओर हम ध्यान और समय देंगे तो ही योगीजनों द्वारा अपने को दी हुई इस अमूल्य विद्या के ऋण से हम मुक्त होंगे तथा अपनी साधना भी परिपूर्ण होगी।उन्होंने कहा कि
ॐ असतो मा सद्गमय।
तमसो मा ज्योतिर्गमय।
मृत्योर्मामृतं गमय ॥
ॐ शान्ति: शान्ति: शान्तिः ॥

Advertisement

इस अवसर पर विद्यालय के समस्त आचार्य बंधुओं और योगाचार्य दिव्यानंद जी के द्वारा पूर्ण योग के प्रोटोकाल को फॉलो करते हुए तथा विद्यालय के समस्त छात्र भैया आनलाइन सोशल मीडिया के माध्यम से संपूर्ण योग का अभ्यास किया।

7007809707 for Ad Booking
Advertisement
holipath
holipath
dpc
dpc
aashirwad hospital
aashirwad hospital
holipath
holipath
dpc
dpc
aashirwad hospital
aashirwad hospital
previous arrow
next arrow
Shadow
Advertisement
mditech seo
MDITech creative digital marketing agency
mditech seo
mditech seo
MDITech creative digital marketing agency
MDITech creative digital marketing agency
previous arrow
next arrow
Shadow

9768 74 1972 for Website Design and Digital Marketing

Pradeep Gupta

Nothing but authentic. Chief Editor at www.prabhat.news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *